> काव्य-धारा (Poetry Stream): जीवन, प्यार और आत्मा-झलक : तेरे लिए

मंगलवार, 5 फ़रवरी 2013

तेरे लिए




जिन्दा हुआ हूँ फिर से
तेरी सुरीली आवाज़ पर
सजाये है मैंने कई सपने
रातों को जाग-जाग कर

सपने ये सच होगें
यकीन है यह मुझको
होगा न कष्ट कोई
भरोसा मेरा है तुझको

 तेरे लिए सजाऊंगा अब
प्यारी दुल्हन-सी जिंदगी
कमी होगी न कहीं कोई
तेरे लिए मेरी है बंदगी

क किताब की तरह
मेरी जिंदगी खुली हुई है
हर पन्ने पर सुनहरे अक्षर
देख, तेरा नाम लिखा है

रोज फुर्सत से पढ़ना
बहुत संभल कर रखी है
प्रिये, सिर्फ तेरे लिए
रोज का पैगाम लिखा है

अनामिका जब छुएगी
मन के तार झंकृत होंगे
बज उठेगी फिर सरगम
जीवन में नए आयाम होंगे

तेरे लिए शमा बनकर
करूंगा रोशन हर राह
खुशियों भरा हो दामन
प्रिये, यही मेरी चाह|

 
(c) हेमंत कुमार दुबे

1 टिप्पणी:

  1. बहुत खूब . सुन्दर प्रस्तुति .आभार आपका
    http://madan-saxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena.blogspot.in/
    http://madanmohansaxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena69.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं