> काव्य-धारा (Poetry Stream): जीवन, प्यार और आत्मा-झलक : सुप्रभात

गुरुवार, 9 फ़रवरी 2012

सुप्रभात

उषाकाल कमरे में आना,
चाय की प्याली के साथ
कोमल, गर्म – नरम हाथों से
दे जाना गालों पर -
एक थपथपाहट|

धीरे से खिड़कियों के परदे खिसकाना,
लौह-जालियों के बीच से,
गुनगुनी धूप का छन-छन,
कमरे को रोशनी से भर जाना|

तुम्हारी उंगलियां जब हौले से छुएंगी,
मेरे अर्धोन्मीलित नेत्र देखेंगे -
तुम्हारे गुलाबी होठों पर
स्निग्ध मंद-स्मित, और
दिल की धडकन कहेगी –
सुप्रभात, मेरे प्यार|

(c) हेमंत कुमार दुबे

2 टिप्‍पणियां:

  1. सुप्रभात.... !
    आपका प्यार ,स्निग्ध मंद-स्मित, और ,
    उषाकाल ,कमरे में आना, चाय की प्याली के साथ ,

    सम्पूर्ण जीवन चलता रहे और प्यार बढ़ता रहे.......... !

    उत्तर देंहटाएं