> काव्य-धारा (Poetry Stream): जीवन, प्यार और आत्मा-झलक : तुम पुकार लेना

रविवार, 31 मार्च 2013

तुम पुकार लेना



तुमने शुभ रात्रि नहीं कहा
वक्त जो तुम्हें नहीं मिला
और प्रेमी बैठा हुआ
रात भर
कर रहा इंतज़ार
तुम्हारे ई-सन्देश के आने का

दर्द दिया तो सहता है
तुम्हारे दर्द से मिला दर्द
और चाहो तो पूछ लेना
उसके तकिये से
जिसने समेटा है समंदर
भावों का
और जिसपर चल पड़ी हैं
नदियों की धाराएँ

कैसा ये प्यार है
दर्द देता है
रूठता है
मनाता है
जानता है परिणाम
फिर भी बेवकूफी करता है
चुभो कर अपने ही दिल में
अपने हाथों से खंजर
मरहम भी खुद ही लगता है

जानता है
जुदा होकर जी न पायेगा
पर क्यों करता है
अपना ही खून
यह जान न पाता है
क्योंकि
यही शायद संसारी माया है
जिसने
उसे बार-बार भरमाया है

जानती हो
प्रेमी तुम बिन
बेशक मर जाएगा
जो तुमको एक पल के लिए भी
अपने पास नहीं पायेगा
इसलिए
सुबह की पहली किरण
जब दे दरवाजे पर दस्तक
तुम पुकार लेना
उसका नाम
जो तुम्हारी जिंदगी है
जैसे तुम उसकी हो
सिर्फ उसकी|

(c) हेमंत कुमार दुबे

2 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर कविता | पढ़कर मन गदगद हो उठा | आभार |

    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    उत्तर देंहटाएं