> काव्य-धारा (Poetry Stream): जीवन, प्यार और आत्मा-झलक : July 2011

शुक्रवार, 1 जुलाई 2011

यादों की पिटारी

यादों की पिटारी

कानों में मिसरी-सी घोलती
वो दादा जी की प्यारी बोली,
बचपन की जो याद दिलाती,
वर्षों बाद भी मेरे हम जोली |
...........
सुंगंधित फूलों की बगिया में
चम-चम चमकते जुगनुओं की
सितारों जड़ित पंख फैलाये
आंगन में उतरती परियों की|

........

'परिकल्पना ब्लागोत्सव' में 'चाँद के पार' पन्ने पर प्रकाशित मेरी  पूरी कविता पढ़ें |